सीएम अखिलेश के आगे झुुके मुलायम – पार्टी में हुई वापसी, चाचा शिवपाल की हो गई छुट्टी

लखनऊ समाजवादी परिवार की लड़ाई अब खत्म होने के कगार पर आ गई है। बाप-बेटे के इस झगड़े में अखिलेश यादव की जीत हुई है। खबर आ रही है कि समाजवादी पार्टी से अखिलेश यादव का 6 साल के लिए हुआ निष्कासन रद्द कर दिया गया है। सपा की वेबसाइट पर से अखिलेश और रामगोपाल यादव का निष्कासन वाला पत्र हटा लिया गया है, जबकि शुक्रवार को मुलायम सिंह की घोषणा के बाद तत्काल इसे वेबसाइट पर अपडेट कर दिया गया था। इसके साथ ही रामगोपाल यादव की भी पार्टी में वापसी होगी। इसके अलावा अमर सिंह को पार्टी से बाहर कर दिया गया है और शिवपाल यादव को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है।

अखिलेश यादव

अखिलेश यादव के दबाव में मुलायम ने लिया फैसला

अखिलेश की मीटिंग में विधायकों की तादाद को देखते हुए मुलायम को यह फैसला लेना पड़ा। अखिलेश की इस बैठक में करीब 200 एमएलए और एमएलसी पहुंचे। इस मीटिंग में अखिलेश ने बड़ा भावुक बयान दिया। उन्होंने कहा कि वे यूपी चुनाव जीतकर तोहफे में नेताजी (मुलायम) को देंगे। बाद में अखिलेश और मुलायम की मुलाकात भी हुई। उस भेंट में मुलायम ने अखिलेश से कहा कि मैं तुम्हारा पिता हूं और मैं तुम्हें अहित नहीं पहुंचा सकता हूं। इसके बाद जाकर दोनों नेताओं में सहमति हुई।

आजम खां हो सकते हैं नए अध्यक्ष

दूसरा सबसे बड़ा फैसला ये हो सकता है कि शिवपाल यादव की प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी जा सकती है, उनकी जगह आजम कान को प्रदेश अध्यक्ष पद की बागडोर सौंपी जा सकती है। यही नहीं सपा से बर्खास्त सभी नेताओं की बहाली भी हो सकती है। आजम खान ने खुद मुलायम सिंह से मुलाकात की और इस झगड़े को खत्म करने की अपील की। वहीं, राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने भी अखिलेश और मुलायम सिंह से फोन पर बात की और दोनों से इस मसले को सुलझाने को कहा।