एपल के लिए एप बना भारतीयों ने कमाए करोड़ों

न्यूयार्क। स्वतंत्र एप डेवलपरों ने एपल के लिए एप बना कर 20 अबर डालर से ज्यादा की कमाई की है। बीते साल कई सारे भारतीय एप डेवलपरों ने भी एपल के लिए एप बनाए थे।
अरबों डालर की कमाई
कंपनी ने कहा कि एप स्टोर की शुरुआत 2008 में हुई थी। अब तक इसके माध्यम से डेवलपरों ने 60 अरब डॉलर की कमाई की है। इसके तहत आईफोन, आईपैड, एपल वॉच, एपल टीवी और मैक के लिए एप बनाए जाते हैं। एपल के वैश्विक विपणन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष फिलिप शिलर ने कहा कि हमने अपने डेवलपर समुदाय का शुक्रिया अदा किया, क्योंकि उन्होंने कई अभिनव एप का सृजन किया।
भारत के एप डेवलेपर सक्रिय
एपल इंडिया के प्रवक्ता के मुताबिक एपल के भारतीय एप डेवलेपर उसके प्लेटफार्म पर कई अनोखे एप बना रहे हैं। प्रवक्ता ने बताया कि हम हमारे पूरे एप समुदाय का शुक्रिया अदा करना चाहते हैं, जिन्होंने कई अभिनव एप का सृजन किया। इसने हमारे उत्पादों के साथ मिलकर वास्तव में लोगों की जिन्दगी को समृद्ध करने में मदद की है। हमारे कई एप डेवलपर भारत से है, जो अब वैश्विक स्तर पर सबसे तेजी से बढ़ने वाला अभिनव समुदाय है।
एयरसेल का रद्द हो सकता है लाइसेंस
दूसरी तरफ देश में मलेशिया स्थित मैक्सिस कंपनी के मालिक अनंत कृष्णन और उनके कभी प्रमुख सहयोगी रह चुके निदेशक ऑगस्तस राल्फ मार्शल के अदालत के समक्ष उपस्थित होने में विफल होने की स्थिति में सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को एयरसेल को मिले 2जी लाइसेंस को रद्द करने का प्रस्ताव रखा। इस भारतीय टेलीकॉम कंपनी में कृष्णन ने अधिकांश शेयर खरीदे थे। मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे.एस.केहर के नेतृत्व में पीठ ने एयसेल को मूल रूप से आवंटित 2जी स्पेक्ट्रम किसी अन्य को हस्तान्तरित करने पर भी प्रतिबंध लगा दिया।
पेश होना ही होगा
लाइसेंस रद्द करने का प्रस्ताव करते हुए अदालत ने कहा कि अदालत के समक्ष पेश होने से बचने की आड़ में कृष्णन और मार्शल को कानूनी प्रक्रिया को हताश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। शीर्ष अदालत ने कहा कि एयरसेल को मूल रूप से आवंटित 2जी लाइसेंस किसी अन्य सेवा प्रदाता को अस्थाई रूप से हस्तान्तरित करने के लिए सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय तरीका ढ़ूंढ़ेगा ताकि ग्राहकों को किसी प्रतिकूल परिणाम से परेशान नहीं पड़े। पीठ ने कहा कि कृष्णन और मार्शल दिल्ली में अदालत के समक्ष पेश होने के लिए स्वतंत्र हैं और विफल होने पर अदालत प्रस्तावित आदेश पारित कर देगी। अदालत ने यह स्पष्ट कर दिया कि कृष्णन और मार्शल को किसी वित्तीय क्षति का मुद्दा उठाने की इजाजत नहीं होगी जोकि साल 2006 में एयरसेल को मिले 2जी लाइसेंस और स्पेक्ट्रम को रद्द करने से उन्हें हो सकती है।