नोटबंदी में हमें शामिल नहीं किया गया, ये फैसला सिर्फ मोदी सरकार का है : RBI

नई दिल्ली। नोटबंदी को दो महीने से ज्यादा का वक्त हो गया है, लेकिन अभी भी हालात सामान्य होते नहीं दिख रहे हैं। ऐसे में एक नई बात सामने आई है जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा है कि नोटबंदी का फैसला केवल मोदी सरकार का था और इस संबंध में आरबीआई को घोषणा से सिर्फ एक दिन पहले जानकारी दी गई थी।

नोटबंदी के एक दिन पहले आरबीआई को मिली थी इसकी जानकारी

ऐसे में अब जो सवाल सामने आ रहा है वो ये है कि सरकार ने पहले कहा था कि नोटबंदी पर आरबीआई की सलाह ली थी लेकिन अब रिजर्व बैंक का कहना है कि फैसले से मात्र एक दिन पहले उन्हें इसकी जानकारी दी गई थी। संसदीय पैनल को दी गई रिपोर्ट में आर.बी.आई. ने यह जानकारी दी है। अब सवाल ये उठता है कि इसमें कौन झूठ बोल रहा है पीएम मोदी या आरबीआई?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा की थी। साथ ही बैंक और एटीएम से पैसे निकालने पर भी पाबंदी लगा दी थी, जो अभी भी कायम है। पहले आप एटीएम से 2000 और बैंक से हफ्ते में सिर्फ एक बार 24000 रुपये ही निकाल सकते हैं। बैंक की सीमा तो अभी भी उतनी ही है लेकिन एटीएम की सीमा अब 4500 रुपये तक कर दी गई है। 500 और 1000 के पुराने नोट बंद करने के बाद सरकार ने 2000 और 500 के नए नोट छापे हैं।  जो पर्याप्त मात्रा में न मिलने के कारण लोगों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा  है। नोटबंदी की वजह से अब तक देश में 120 लोगों की मौत हो चुकी है।

नोटबंदी से एक तरफ जहां पूरे देश में आपातकाल जैसा माहौल बन गया है तो वहीं दूसरी ओर सभी राजनीतिक पार्टियां भी इसका जमकर विरोध कर रही हैं और इस मुद्दे को चुनाव में भुनाने की कोशिश में जुटी हैं।