फर्श पर तड़पती रही प्रसूता, डॉक्टरों ने नहीं ली सुधि

गया: गया के परैया अस्पताल में बुधवार को एक गर्भवती प्रसव के दर्द से अस्पताल परिसर में फर्श पर तड़पती रही, वही परिजन डॉक्टर को प्रसव के लिए बुलाते रहे। लेकिन समय पर डॉक्टर के नहीं आने के चलते फर्श पर ही गर्भवती के प्रसव हो गया।

क्या है पूरा मामला

गर्भवती महिलाओं में एक देखिनेर की आशा देवी पति रामकृत दास और दूसरी नाद गाँव की आशा देवी पति संजीत चौधरी थी। दोनों ही महिलाये प्रसव पीड़ा के कारण व्याकुल थी। परिजनों के अनुसार वो अस्पताल में जाकर गुहार लगाते रहे। लेकिन किसी ने कोई मदद नहीं की। लगभग आधे घण्टे के अंतराल के बाद नाद की गर्भवती महिला का प्रसव अस्पताल के बाहर ही फर्श पर हो गया।

सूचना के बाद वहां पहुंचे मीडिया वालों को देख अस्पताल में उपस्थित चिकित्सक व परिचारिका भागे आये और दोनों महिलाओं को अंदर ले गए। परिजनों का आरोप है कि उस समय कार्यरत चिकित्स डॉ. विकास भास्कर व परिचारिका निभा कुमारी को सूचना मिली पर वो बाहर नहीं आये। इसके अलावा अन्य चिकित्साकर्मी भी मदद को आगे नहीं आये। अस्पताल के बाहर हुए प्रसव के बाद जब हंगामा हुआ तब सभी भागे दौड़े चले आये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *