मतदाताओं को रिझाने के लिए गायत्री प्रजापति ने मंगवाई साड़ियों की खेप, पुलिस ने फेरा मनसूबे पर पानी

फतेहपुर: उत्तर प्रदेश में आचार संहिता लागू होते ही उम्मीदवारों पर पुलिस की टेढी नज़र हो गई है। इसी क्रम में फतेहपुर पुलिस ने जांच के दौरान एक डीसीएम ट्रक रोका तो उसमें हजारों की संख्या में साड़ियां भरी मिलीं। पूछताछ में पता चला कि ये साड़ियां उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति ने मंगवाई थीं, जो कानपुर से अमेठी जा रही थीं। इसका बिल प्रदेश के परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के नाम था। गायत्री प्रसाद प्रजापति अमेठी से ही चुनाव लड़ रहे हैं। इस मामले में गायत्री प्रसाद प्रजापति समेत 3 लोगों के खिलाफ फतेहपुर के हुसैनगंज थाने में आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर मामला दर्ज किया गया है।

4536 साडियां पकड़ी गईं

पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि 4,536 साड़ियां जब्त की गई हैं और डीसीएम को सीज कर दिया गया है। पूछताछ में उन्नाव के पाटन-बीघापुर निवासी डीसीएम चालक अमित शुक्ला व खलासी ने मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति का पूरा नाम और पता बताते हुए साड़ियां अमेठी स्थित उनके यहां ले जाने की बात कही। साड़ियों में जो स्टीकर लगा है उनमें राधे-राधे बीजेपी लिखा है। जब्त साड़ियां सपा सरकार के कैबिनेट मंत्री की बताई जा रहीं और स्टीकर में बीजेपी का उल्लेख कहीं जान बूझकर तो नहीं किया गया है। आशंका जताई जा रही है कि यह साजिश भी हो सकती है।

प्रजपति के प्रतिनिधि ने बताया विरोधियों की साजिश

पकड़े जाने पर पहले चालक ने बताया कि साड़ियां गायत्री प्रसाद प्रजापति के यहां ले जा रहा था। बाद में थाने में उसके सुर बदल गए। पत्रकारों के सामने उसने कहा कि वह साड़ियां लेकर अमेठी जा रहा था। ये किसकी हैं, इससे उसका मतलब नहीं है। उसने मोबाइल से दुकानदार को सूचना दे दी है कि गाड़ी पुलिस ने पकड़ ली है। सूत्र बताते हैं कि जब पूरे प्रकरण की जानकारी गायत्री प्रसाद प्रजापति को हुई तो उन्होंने फोन के जरिए डीसीएम छोड़ने के लिए पुलिस से कहा। उधर इस मामले में गायत्री प्रसाद प्रजापति के प्रतिनिधि अमरेंद्र सिंह पिंटू ने कहा है कि यह विरोधियों की साजिश है। गायत्री ने कोई साड़ी नहीं मंगाई। इससे हमारा कोई सरोकार नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *