धोनी मैच तो हार गए लेकिन प्रशंसकों का दिल जीतने में कामयाब रहे

मुंबई। इंग्लैंड के खिलाफ इंडिया ए के लिए कप्तानी पारी खेलते हुए एमएस धोनी ने आखिरी ओवर में ताबड़तोड़ बैटिंग की। लेकिन बावजूद इसके टीम को हार का सामना करना पड़ा। आखिरी बार खेल रही भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ अभ्यास मैच में तीन विकेट से हार गई। लेकिन धोनी ने पूरे देश का दिल जीत लिया। भारत-ए ने ब्रेबोर्न स्टेडियम में हुए इस अभ्यास मैच में धौनी (नाबाद 68) की चिर-परिचित कप्तानी पारी के बल पर 304 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया, लेकिन इंग्लैंड ने सैम बिलिंग्स (93) के बल पर सात गेंद शेष रहते 307 रन बनाकर जीत हासिल कर ली।

इंग्लैंड ने टॉस जीत कर इंडिया-ए को पहले बल्लेबाजी का न्यौता दिया। भारत-ए ने अंबाती रायडू (100), धोनी, शिखर धवन (63) और युवराज सिंह (56) की शानदार पारियों की मदद से पांच विकेट के नुकसान पर 304 रन बनाए। महेंद्र सिंह धोनी ने वोक्स द्वारा फेंके गए आखिरी ओवर में दो छक्के और दो चौके लगाते हुए 23 रन जुटाए और टीम को 304 रनों का चुनौतीपूर्ण स्कोर प्रदान किया। इंग्लैंड ने सैम बिलिंग्स (93) और जेसन रॉय (62) की बदौलत इस लक्ष्य को हासिल कर लिया।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड को रॉय और एलेक्स हेल्स (40) ने मजूबत शुरुआत दी और पहले विकेट के लिए 95 रन जोड़े। इस स्कोर पर चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव ने हेल्स को पवेलियन पहुंचाया। हेल्स के बाद रॉय और कप्तान इयान मोर्गन (3) भी जल्द ही पवेलियन लौट गए। अच्छी शुरुआत से मजबूत दिख रही इंग्लैंड ने 17 रनों की भीतर तीन विकेट गंवा दिए थे। इंग्लैंड का स्कोर 112 रनों पर तीन विकेट था।

यहां से बिलिंग्स ने जोस बटलर (46) के साथ चौथे विकेट के लिए 79 और फिर लियाम डॉसन (41)के साथ छठे विकेट के लिए 99 रनों की साझेदारी कर इंग्लैंड को जीत के करीब पहुंचाया। जीत जब करीब थी तभी 290 के कुल स्कोर पर बिलिंग्स और डॉसन पवेलियन लौट गए। 85 गेंदें खेल आठ चौके मारने वाले बिलिंग्स को हार्दिक पांड्या ने अपना शिकार बनाया जबकि डॉसन कुलदीप का शिकार बने। अंत में वोक्स (नाबाद 11) और आदिल राशिद (नाबाद 6) ने इंग्लैंड को जीत दिलाई।