कारोबार

शेयर बाजार में तेजी की हैट्रिक

शेयर बाजार

नई दिल्ली। गुरुवार को भारतीय शेयर बाजार में शानदार दिन रहा। आज शेयर बाजार में तेजी का सैकड़ा लगा। हालांकि यह तेजी सिर्फ बड़े इंडेक्स में देखने को मिली बाकी में से कई इंडेक्स में गिरावट रही।
शेयर बाजार लगातार तीसरे दिन तेजी के साथ बंद होने में कामयाब रहे है। बीएसई का 30 शेयरों वाला इंडेक्स सेंसेक्स गुरुवार को 107 अंक बढ़कर 27,247 पर और निफ्टी का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 26 अंक बढ़कर 8407 के स्तर पर बंद हुआ है।
अमेरिका से मिले अच्छे संकेत
अमेरिकी और एशियाई बाजारों से मिले मजबूत संकेतों के दम पर सुबह घरेलू शेयर बाजार की शुरुआत तेजी के साथ हुई। दिन के कारोबार में सरकारी कंपनियों के शेयरों आई जोरदार तेजी के चलते सेंसेक्स ने 27278.93 का और निफ्टी ने 8417.20 का स्तर छुआ। अंत में सेंसेक्स और निफ्टी दो महीन के ऊपरी स्तर पर बंद हुए है। बता दें कि निफ्टी ने 11 नवंबर 2016 के बाद 8400 के स्तर को पार किया है।
सेंसेक्स जाएगा 30 हजार 500 तक
एचएसबीसी ग्लोबल एसेट मैनेजमेंट कंपनी के सीआईओ तुषार प्रधान ने कहना है कि भारत सुधार के रास्ते पर तेजी से बढ़ेगा। इससे बने बेहतर राजकाज, कर राजस्व में वृद्धि तथा व्यापार गतिविधियों के लिए अनुकूल व्यापार माहौल का लाभ उठाने में सफल रहेगा। भारत की वृद्धि को लेकर भरोसा जताते हुए प्रधान ने कहा कि एचएसबीसी ने दिसंबर 2017 के अंत तक सेंसेक्स 30,500 पहुंच जाने का लक्ष्य रखा है। सेंसेक्स फिलहाल 26,000 से 27,000 के स्तर पर है। तीस शेयरों वाला सेंसेक्स बुधवार को 240.85 अंक की बढ़त के साथ 27,140.41 अंक पर बंद हुआ। प्रधान ने कहा कि नोटबंदी का इकोनॉमी पर लघु अवधि में नकारात्मक असर हुआ है, लेकिन जीएसटी के लागू होने से लंबी अवधि में विकास को बल मिलेगा। प्रधान के अनुसार जीएसटी को सफलतापूर्वक लागू करने से वित्तीय स्थायित्व आएगा, कारोबार करने की लागत कम होगी और लॉजिस्टिक की कॉस्ट भी घटेगी।
तेजी वाले सूचकांक
बीएसई के मिडकैप सूचकांक में तेजी और स्मॉलकैप में गिरावट देखी गई। मिडकैप 23.91 अंकों की तेजी के साथ 12,642.49 पर और स्मॉलकैप 20.16 अंकों की गिरावट के साथ 12686.59 पर बंद हुआ। बीएसई के 19 में से 13 सेक्टरों में तेजी रही। उपभोक्ता सेवाएं (3.22 फीसदी), बिजली (3.19 फीसदी), सूचना प्रौद्योगिकी (1.92 फीसदी), प्रौद्योगिकी (1.55 फीसदी) और पूंजीगत वस्तुएं (1.51 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।
गिरावट वाले सूचकांक
बीएसई के गिरावट वाले सेक्टरों में प्रमुख रहे- तेज खपत उपभोक्ता वस्तु (0.96 फीसदी), स्वास्थ्य सेवाएं (0.73 फीसदी), वाहन (0.19 फीसदी), उपभोक्ता गैरअनिवार्य वस्तुएं एवं सेवाएं (0.13 फीसदी) और रियल्टी (0.06 फीसदी)।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Popular News

To Top