सरताज़ अज़ीज़ के ट्विटर पर भड़काऊ ट्वीट्स, ब्रह्मपुत्र का पानी रुकवाने पर गर्व!

पाकिस्तान के भूतपूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ के निज़ी सलाकार सरताज़ अज़ीज़ ने अपने ट्विटर हैंडल से कुछ दंग कर देने वाले भारत विरोधी ट्वीट किये हैं.


हमसे फेसबुक पर भी जुडें!


हाल ही में उरी में हुए हमले के बाद लगातार भारत और पाकिस्तान के बीच कूटनीतिक जंग चली जिसका अंत भारत की पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक से हुआ.

पढ़ें: पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक: जानें सब! कब? क्या? कैसे हुआ ऑपरेशन?

इस स्ट्राइक को हालाँकि पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र तक में जाके झुठला दिया पर पाकिस्तानी ज़मीन पर जी रहे 26/11 मुंबई हमले के मुख्य आरोपी ने काफी गुस्सैल ढंग से दिया. हाफिज़ के शब्दों में, ‘कश्मीर की आज़ादी से शुरू होगी भारत की तबाही. बहुत बदला बाकि है अभी.’ हाफिज़ ने यहाँ तक बढ़ चढ़ कर कहा कि पाकिस्तानी सेना को आज़ादी दे देनी चाहिए और वो कश्मीर को उसकी आज़ादी दिला देगी. ट्विटर ने बहुत जल्द हाफिज़ के अकाउंट को ब्लाक कर दिया लेकिन सरताज़ अज़ीज़ का ट्वीट हमें दंग कर देता है.

इस में सरताज़ अज़ीज़ ने ट्विटर के सह संस्थापक जैक को गाली देते हुए ‘जनाब हाफिज़ सईद’ के अकाउंट को ब्लाक करने को बोलने की आज़ादी का क़त्ल कहा है.

इससी कूटनीतिक जंग में मोदी का बयान, ‘खून और पानी एक साथ नहीं बह सकता है’, पाकिस्तान को काफी खल गया.

पढ़ें: पानी और खून एक साथ नहीं बह सकता: नरेन्द्र मोदी

इसके परिणामस्वरूप चीन अपने दोस्त की मदद के लिए उतरा और उसने ब्रह्मपुत्र की एक सहायक नदी का पानी रोक दिया.

पढ़ें: मैदान में उतरा चीन, ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी का पानी रोका, भारत पर दबाव!

इस पर भी सरताज़ अज़ीज़ का दंग कर देने वाला ट्वीट आया. पाकिस्तान ने भारत के सिंधु नदियों का पानी रोकने को युद्ध की शंकनाध बताया था, ऐसे में सरताज़ अज़ीज़ का ट्वीट दंग कर देता है.

पढ़ें: अन्ना हजारे को बनाना चाहते हैं भारत का राष्ट्रपति नवाज़ शरीफ के सुरक्षा सलाहकार! जानें क्यूँ?

इस ट्वीट में सरताज़ अज़ीज़ कह रहे हैं कि पाकिस्तानी एनएसऐ और उनके कहने पर चीन ब्रह्मपुत्र का पानी भारत जाने से रोकेगा और उन्हें इस पर गर्व है.

पाकिस्तान भारत का कितना बड़ा विरोधी है ये सरताज़ अज़ीज़ के ट्विटर से ज़ाहिर है, आगे का सोचना हम आप पर छोड़ देते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *