अफगानिस्तान: तालिबानी कब्जे के बाद बिगड़ते हालात, IOM ने बड़ी संख्या में विस्थापित लोगों पर चिंता की व्यक्त


काबुल, अफगानिस्तान में तालिबानियों के कब्जे के बाद हालात बिगड़ते जा रही हैं। लोग तेजी से अपना देश छोड़, दूसरे देशों की तरफ पलायन कर रहे हैं। प्रवासन के लिए अंतर्राष्ट्रीय संगठन (IOM) ने अफगानिस्तान में बड़ी संख्या में विस्थापित लोगों पर गंभीर चिंता व्यक्त की है। संगठन ने कहा, ‘2021 में हुए संघर्ष के बाद 6,64,000 नए अफगानी विस्थापित हुए’ साथ ही कहा गया कि अफगानिस्तान में मानवीय संकट अभी भी जारी है।

क्या कहा संयुक्त राष्ट्र एजेंसी ने

एक बयान में, संयुक्त राष्ट्र एजेंसी ने कहा, ‘अफगानिस्तान में अब अनुमानित 5.5 मिलियन आंतरिक रूप से विस्थापित व्यक्ति (IDP) हैं, जिनमें लंबी परिस्थितियों में रहने वाले लोग शामिल हैं, और 2021 में संघर्ष के बाद 6,64,000 नए विस्थापित हुए हैं।’ आपको बता दें कि यह आंकड़ा 924,744 से अधिक अनिर्दिष्ट अफगान रिटर्न के अतिरिक्त है, जो 1 जनवरी, 2021 और सितंबर 2021 के अंत के बीच ईरान और पाकिस्तान से लौटे हैं, और 2.2. मिलियन से अधिक शरणार्थी और 3.5 मिलियन अनिर्दिष्ट अफगान नागरिक पहले से ही पड़ोसी देशों में हैं, मुख्य रूप से ईरान और पाकिस्तान में हैं।

बुरे हालात से जूझ रहे हैं अफगानवासी

तालिबानी कब्जे के बाद अफगान में सबसे ज्यादा लोग भूख से परेशान है। भुखमरी के कारण सैकड़ों लोग अपना घर छोड़ने को विवश हैं। टोलो न्यूज द्वारा दी गई रिपोर्ट में पांच बच्चों की मां और मुश्किल परिस्थितियों से जूझ रहे हजारों विस्थापित अफगानों में से एक अन्य विस्थापित व्यक्ति मोहम्मद अफजल ने टोलो न्यूज को बताया, ‘जीवन बीत रहा है। सरकार ने मेरी मदद नहीं की। हमारे पास घर पर खाना नहीं है। युद्ध और गरीबी के कारण हमने अपना घर छोड़ दिया है। मैं भोजन खोजने के लिए काम कर रहा हूं,’

प्रत्यावर्तन मंत्रालय ने कहा

इस बीच, तालिबान के नेतृत्व वाली सरकार के शरणार्थी और प्रत्यावर्तन मंत्रालय ने कहा कि वह विस्थापित लोगों का समर्थन करने के लिए अंतरराष्ट्रीय दाताओं से अधिक मानवीय सहायता प्राप्त करने की कोशिश कर रहा है। मंत्रालय ने कहा कि उसने विस्थापित लोगों को सहायता का एक राष्ट्रव्यापी वितरण शुरू किया है। हालांकि, अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के एक पूर्व मीडिया अधिकारी ने कहा, ‘हम इस स्थिति में हैं कि अंतरराष्ट्रीय संगठन और अफगान सरकार दोनों ही समाधान करने में असमर्थ हैं।’