लगातार टीम इंडिया से बाहर रहने के कारण ये गेंदबाज ले सकता है संन्यास


नई दिल्ली: टीम इंडिया इस वक्त साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज के आखिरी और निर्णायक मुकाबले में भिड़ रही है. ये सीरीज 1-1 से बराबरी पर है. टीम इंडिया ने लगभग एक जैसी ही प्लेइंग 11 तीनों मैचों में उतारी है. ऐसे में कई दिग्गज खिलाड़ी हैं जिनका ये पूरा दौरा बेंच पर ही निकल गया. वहीं एक क्रिकेटर तो ऐसा है जो टीम में आने के लिए तड़प रहा है लेकिन कप्तान कोहली उसे कोई मौका नहीं दे रहे. ऐसे में वो इस दौरे के बाद संन्यास का ऐलान भी कर सकता है. 

बर्बाद हो रहा इस खिलाड़ी का करियर

विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम इंडिया इस वक्त तीसरे टेस्ट में साउथ अफ्रीका से भिड़ रही है. इस टेस्ट से पहले टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज चोटिल होने के चलते बाहर हो गए थे. जिनकी जगह पर उमेश यादव को खेलने की जगह दी गई. वहीं ईशांत शर्मा को लगातार तीसरे टेस्ट में बाहर रखा गया. 33 साल के इस खिलाड़ी का करियर धीरे-धीरे अब खत्म होने की ओर बढ़ रहा है. ये बात तो तय है कि ईशांत कप्तान कोहली की पहली पसंद नहीं रहे हैं और उन्हें टीम में सिर्फ तभी मौका दिया जाता है जब मुख्य गेंदबाज चोटिल हो जाएं. वहीं अब तो उमेश यादव और शार्दुल ठाकुर को भी उनसे ऊपर रखा जाने लगा है. ऐसे में ये गेंदबाज टीम से लगातार बाहर रहने की वजह से संन्यास भी ले सकता है. 

ये गेंदबाज हैं विराट के फेवरेट

विराट कोहली इस वक्त जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और मोहम्मद सिराज पर सबसे ज्यादा भरोसा करते हैं. बुमराह-शमी की जोड़ी तो सुपरहिट है और इस वक्त उन्हें टीम से कोई भी बाहर नहीं कर सकता है. वहीं सिराज की बात करें तो ये गेंदबाज पिछले एक साल में टीम की तेज गेंदबाजी की ताकत बन चुका है. सिराज ने ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में कमाल का प्रदर्शन किया था. वहीं चौथे गेंदबाज के तौर पर उमेश यादव को मौका इसलिए दिया जाता है क्योंकि वो तेज तर्रार गेंदबाजी करने में माहिर हैं. 

अब गेंदबाजी में भी नहीं दिखती धार

ईशांत शर्मा की बात करें तो उनकी गेंदबाजी में अब वो पहली वाली धार नहीं नजर आती है. तेज गेंदबाजों के लिए उम्र भी एक बड़ा फैक्टर रहती है क्योंकि उनका कंधा एक समय तक ही लय में चलता है. वहीं सिराज और बुमराह जैसे बॉलर अभी काफी युवा हैं. उनका करियर काफी लंबा है और वो अभी टीम में काफी समय बिता सकते हैं. ईशांत की जगह बहुत से गेंदबाज ले सकते हैं. वहीं भुवनेश्वर कुमार जैसे स्विंग किंग कहे जाने वाले गेंदबाज भी टीम से बाहर हैं. 

29 साल बाद रचा जा सकता है इतिहास 

वहीं इस सीरीज की बात करें तो टीम इंडिया 29 साल बाद साउथ अफ्रीका की धरती पर इतिहास रच सकती है. इस धरती पर भारतीय टीम आजतक एक भी सीरीज नहीं जीत पाई है. इस वक्त सीरीज 1-1 से बराबरी पर है. अगर केपटाउन टेस्ट में टीम इंडिया जीत हासिल कर लेती है तो सीरीज उसके नाम हो जाएगी.