विराट कोहली के टेस्ट कप्तानी छोड़ने पर बुरी तरह भड़के कपिल देव, कही यह बात


नई दिल्ली: विराट कोहली ने 15 जनवरी की शाम को पूरे खेल जगत को एक बड़ा झटका दिया. विराट ने सरेआम सोशल मीडिया पर ऐलान करते हुए कहा कि वो अब टेस्ट टीम की कप्तानी भी छोड़ रहे हैं. विराट टेस्ट क्रिकेट में भारत के सबसे सफल कप्तान रहे हैं और इसलिए उनके इस फैसले ने दुनिया को चौंका कर रख दिया. लेकिन इसी बीच टीम इंडिया को सबसे पहला वर्ल्ड कप जिताने वाले कपिल देव ने विराट के ऊपर एक बड़ा बयान दिया है. 

‘विराट को छोड़नी होगा ईगो’

विराट कोहली के कप्तानी छोड़ने के बाद दुनियाभर के दिग्गज उनके इस फैसले पर बयान दे रहे हैं. इसी बीच 1983 वर्ल्ड कप टीम के कप्तान कपिल देव ने कहा कि कप्तानी छोड़ने के बाद अब विराट को अपनी ईगो को भी छोड़ने होगा. कपिल ने एक मीडिया वेबसाइट से बात करते हुए कहा, ‘जब मैं कप्तान था तो सुनील गावस्कर भी मेरे अंडर खेले. मैं खुद के श्रीकांत और मोहम्मद अजहरुद्दीन की कप्तानी में खेला. मुझे कोई भी अहंकार नहीं था. विराट को भी अब अपनी ईगो को छोड़ना होगा. उन्हें अब एक युवा क्रिकेटर के अंडर खेलना होगा. विराट को अब नए कप्तान और नए खिलाड़ियों का मार्गदर्शन करना चाहिए.’

टेस्ट कप्तानी छोड़ने पर कही ये बात

वहीं विराट कोहली के टेस्ट कप्तानी छोड़ने पर भी कपिल देव ने एक बड़ा बयान दिया है. कपिल ने आगे बातचीत करते हुए कहा, ‘टेस्ट कप्तानी छोड़ने के फैसले पर मैं विराट का स्वागत करता हूं. टी20 कप्तानी छोड़ने के बाद से ही वो मुश्किल वक्त से गुजर रहे हैं. ये एक अच्छा फैसला था क्योंकि वो काफी दवाब में नजर आ रहे थे. मुझे यकीन है कि उन्होंने यह महत्वपूर्ण निर्णय लेने से पहले काफी विचार जरूर किया होगा. हमें उसका समर्थन करना चाहिए.’

गांगुली ने कोहली को कही ये बात

विराट कोहली  के कप्तानी छोड़ने के बाद बीसीसीआई चीफ सौरव गांगुली ने पहली बार कुछ रिएक्शन दिया. बता दें कि कोहली ने जब से टेस्ट टीम की कप्तानी छोड़ी है तभी से गांगुली फैंस के निशाने पर हैं. इसी बीच गांगुली ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘विराट की लीडरशिप में भारतीय क्रिकेट टीम ने तीनों फॉर्मेट में शानदार प्रदर्शन किया. ये विराट का व्यक्तिगत फैसला है और बीसीसीआई इसका सम्मान करता है. वो अभी भी इस टीम के अहम सदस्य हैं और हमेशा रहेंगे. टीम को नई ऊंचाइयों तक ले जाने में उनका योगदान अहम रहने वाला है. विराट एक महान खिलाड़ी हैं. बहुत बढ़िया विराट.’ हालांकि गांगुली के इस बयान ने सभी को चौंका कर रख दिया है क्योंकि कप्तानी के मुद्दे पर उनकी विराट से बिल्कुल भी नहीं बनती थी. 

अचानक लिया कप्तानी छोड़ने का फैसला

विराट कोहली ने दक्षिण अफ्रीका से सीरीज 1-2 से हारने के एक दिन बाद ट्वीट किया, ‘एक मुकाम पर आकर सबको ठहरना होता है और मेरे लिये बतौर भारतीय टेस्ट कप्तान ये वही मुकाम है. इस सफर में कई उतार चढाव आए लेकिन कोशिशों या विश्वास में कभी कमी नहीं रही.’

‘टीम के लिए बेईमान नहीं हो सकता’

विराट कोहली ने आगे लिखा, ‘पिछले सात साल लगातार कड़़ी मेहनत, अथक प्रयासों और दृढता से टीम को सही दिशा में ले जाने के रहे. मैने पूरी ईमानदारी से काम किया और कोई कसर नहीं छोड़ी. मैने हमेशा अपनी ओर से 120 फीसदी देने पर भरोसा किया है और अगर मैं ऐसा नहीं कर पा रहा तो मुझे ये सही नहीं लगता. मेरे दिल में ये बात एकदम साफ है और मैं अपनी टीम के प्रति बेईमान नहीं हो सकता.’