आर्थिक सुधारों को बढ़ाने और व्यापार करने में आसानी लाने के लिए पीएम मोदी ने कही यह बात


नई दिल्ली,  उद्योग जगत ने विश्व आर्थिक मंच (WEF) के ऑनलाइन दावोस एजेंडा 2022 शिखर सम्मेलन के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन का स्वागत किया है। प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने सोमवार को अपने संबोधन में सुधारों के प्रति प्रतिबद्धता जताते हुए कहा कि भारत वैश्विक मूल्य श्रृंखला में एक भरोसेमंद और विश्वसनीय भागीदार की भूमिका निभाएगा।

आर्थिक सुधारों को बढ़ाने करने और व्यापार करने में आसानी लाने के लिए सुधार के प्रति भारत की प्रतिबद्धता का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह देश में निवेश करने का सबसे अच्छा समय है क्योंकि नीति-निर्माण अगले 25 वर्षों के लिए ‘क्लीन और ग्रीन’ के साथ ‘सस्टेनेबल और रिलायबल’ विकास अवधि की जरूरतों पर केंद्रित है।

पीएम मोदी ने भारतीय इकोनमी में हो रहे परिवर्तन और यहां के कारोबार में सहूलियत के हिसाब से माहौल में हो रहे बदलाव का जिक्र करते हुए वैश्विक सप्लाई चेन में भारत को एक सशक्त विकल्प के तौर पर भी पेश किया। उन्होंने कहा कि हम प्रतिबद्ध हैं कि मेक इन इंडिया, मेक फार व‌र्ल्ड के तहत एक भरोसेमंद वैश्विक सप्लाई चेन स्थापित की जा सके।

उन्होंने कहा कि कई देशों के साथ मुक्त व्यापार समझौते को लेकर चल रही वार्ता, यहां तेजी से स्थापित हो रहे यूनीकार्न, प्रतिभाशाली व प्रशिक्षित युवाओं की बढ़ती संख्या, इकोनमी में तकनीक आधारित सेवाओं के तेजी से विस्तार का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि यह भारत में निवेश करने का सबसे सही समय है। भारतीयों की उद्यमशीलता, नई तकनीक को अपनाने की क्षमता वैश्विक कंपनियों को नई ऊर्जा दे सकती है।

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने कहा कि प्रधानमंत्री ने हरित, स्वच्छ और सतत वृद्धि प्रक्रिया पर जोर दिया है, जो भारत की भविष्य की वृद्धि के प्रति भरोसा बढ़ाने वाला है। उद्योग मंडल फिक्की ने भी कहा कि सुधारों के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता से वैश्विक निवेशकों के बीच भारत का आकर्षण और बढ़ेगा। फिक्की ने कहा, ‘‘उद्योग भारत की स्वच्छ, हरित, सतत और विश्वसनीय ऊर्जा के प्रति प्रतिबद्धता का पूरा समर्थन करता है।’’