दिल्ली मेट्रो परिसर के दुकानदारों को अब ओमिक्रोन ने दिया झटका, पढ़े पूरी खबर


नई दिल्ली, पिछले तकरीबन 2 साल से सक्रिय कोरोना वायरस ने हर आय वर्ग के लोगों को झटका दिया है। कामकाज, कारोबार और व्यापार सभी प्रभावित हुए हैं। इस बीच कोरोना वायरस संक्रमण का असर दिल्ली मेट्रो रेल निगम पर भी लगातार पड़ रहा है। हजारों करोड़ रुपये का नुकसान झेल चुके डीएमआरसी को ताजा झटका छोटे दुकानदारों ने दिया है। दरअसल, पिछले डेढ़ साल से लगातार नुकसान का सामना कर रहे तकरीबन 25 प्रतिशत कारोबारियों ने मेट्रो स्टेशन परिसर में आवंटित दुकानें डीएमआरसी को लौटा दी हैं। ओमिक्रोन वैरिएंट के कहर के बीच दुकानों को लौटाने का सिलसिला जारी है। जोरदार घाटे का सामना कर रहे कारोबारों ने वाक इन आधार पर दुकानों के लिए आवेदन किया है।

घाटों से पस्त हैं कारोबारी, बोले डीएमआरसी वापस ले ले अपनी आवंटित दुकानें

बता दें कि मेट्रो स्टेशन परिसर में बनी दुकानों का आवंटन दिल्ली मेट्रो रेल निगम करता है। मार्च, 2020 में लाकडाउन लगने के बाद दिल्ली मेट्रो ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया गया था, लेकिन इन दुकानों का किराया जाता रहा। इस बीच सितंबर, 2020 में मेट्रो का परिचालन शुरू तो हुआ लेकिन कमाई ज्यादा नहीं हुई। वहीं, अप्रैल-मई में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान दिल्ली मेट्रो का परिचालन कम यात्रियों के साथ होने लगा। यह स्थिति पिछले एक महीने से फिर बन गई है। ऐसे में कारोबारों को जोरदार घाटा हुआ है। कमाई घटने के कारण किराये का भुगतान करने में आ रही परेशानी के चलते कारोबारियों ने दुकानें डीएमआरसी को वापस करने की गुजारिश की है।  बताया जा रहा है कि अब तक करीब 25 प्रतिश दुकानें डीएमआरसी को लौटा दी गई हैं। 

अब डीएमआरसी ने वाक इन आधार पर मांगा दुकानों का आवेदन

मिली जानकारी के मुताबिक, डीएमआरसी की तरफ से दुकानों का नए सिरे से आवंटन भी किया जा रहा है। नुकसान की भरपाई करने के लिए डीएमआरसी ने 40 से अधिक दुकानों को वाक इन आधार पर देने के लिए आवेदन मांगा है।