रिलायंस जियो ने अदा की 30,791 रुपये बकाया राशि, कंपनी ने की इतने करोड़ रुपये की बचत


नई दिल्ली,  जियो प्लेटफॉर्म्स लिमिटेड की सब्सिडियरी रिलायंस जियो इंफोकॉम लिमिटेड (RJIL) ने बुधवार को ऐलान किया है कि उसकी तरफ से दूरसंचार विभाग को 30,791 करोड़ रुपये (उपार्जित ब्याज सहित) का भुगतान किया कर दिया है। यह अदायगी साल 2014, 2015 और 2016 में स्पेक्ट्रम नीलामी प्रक्रिया से हासिल स्पेक्ट्रम की देनदारी से संबंधित है। जिसमें स्पेक्ट्रम देनदारी के साथ ब्याज की रकम भी शामिल है। साथ ही RIL की तरफ से साल 2021 में भारती एयरटेल के साथ राइट टू यूज के तहत हासिल स्पेक्ट्रम की बकाया राशि को अदा कर दिया गया है। बता दें कि जियो की तरफ से एयरटेल के 585.3 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम का अधिग्रहण किया था।

कंपनी ने की 1200 करोड़ रुपये की बचत 

दूरसंचार विभाग के दिसंबर 2021 के एक फैसले के मुताबिक टेलिकॉम कंपनियों को अपनी बकाया राशि और उसकी ब्याज की देनदारी के मामले में रियायत दी गई थी। लेकिन कंपनी ने समय पूर्व बकाया राशि का भुगतान कर दिया है। RJIL ने साल 2014 और 2015 की नीलामी से हासिल स्पेक्ट्रम की सभी देनदारी को जनवरी 2022 में पूरा कर दिया है। जबकि इन देनदारी को वित्त वर्ष 2022-23 से 2034-35 तक सालाना किस्तों में दिया जा सकता था, जिस पर 9.30 फीसदी से लेकर 10 फीसदी ब्याज देने का प्रावधान था। लेकिन कंपनी ने समय से पहले इन भुगतान को कर दिया है। RJIL का मानना है कि समय से पूर्व भुगतान करके कंपनी ने मौजूदा ब्याज रेट के हिसाब से सालाना करीब 1200 करोड़ रुपये की बचत की है।

बता दें कि हाल ही में वोडाफोन-आइडिया बकाया राशि का भुगतान करने में नाकामयाब रही है, जिसके चलते उसे सरकार को अपनी हिस्सेदारी देनी पड़ी है।