CM हेमंत सोरेन सरकार के आदेश से पूरे झारखंड में मचा हड़कंप, 24 जिलों में 3979 घर मकान में हुई छापेमारी

Jharkhand News बिजली चोरी के खिलाफ गुरुवार को पूरे राज्य में सघन छापेमारी अभियान चलाया गया। इस दौरान 3979 परिसर में छापेमारी कर 985 परिसर में बिजली चोरी का मामला पकड़ा गया। इनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर 198.85 लाख रुपये का जुर्माना किया गया है। छापेमारी के दौरान रांची में 64, गुमला में 36, जमशेदपुर में 50, चाईबासा में 36, धनबाद में 29, चास में 51, डालटेनगंज में 248, गढ़वा में 27, दुमका में 74, साहिबगंज में 39, गिरिडीह में 49, देवघर में 113, हजारीबाग में 109, रामगढ़ में 27 व कोडरमा में 33 पर प्राथमिकी दर्ज कर जुर्माना लगाया गया है।

दिन के उजाले में ठीक-ठाक, रात के अंधेरे में गुल हो रही बिजली

राज्य में तापमान बढ़ने के साथ ही बिजली आपूर्ति प्रभावित होने लगी है। गुरुवार को दिन में बिजली आपूर्ति सामान्य रही। कही लोड शेडिंग की स्थिति नहीं आई, लेकिन रात में पीक आवर के वक्त लगभग 400 मेगावाट की कमी हो गई। गुरुवार को शहरों में 18 घंटे और ग्रामीण क्षेत्रों में 16 से 17 घंटे तक बिजली की आपूर्ति हुई। स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर के मुताबिक राज्य में बिजली की डिमांड लगभग 2600 मेगावाट है।

टीवीएनएल की दोनों यूनिटों से गुरुवार को भी सामान्य उत्पादन हुआ। इसके अलावा बिजली नेशनल ग्रिड, सोलर इनर्जी कारपोरेशन इनर्जी एक्सचेंज और निजी बिजली उत्पादक कंपनियों से ली जा रही है। बिजली वितरण निगम ने अतिरिक्त बिजली देने का आग्रह इनर्जी एक्सचेंज से किया है। अभी एक्सचेंज से 250 मेगावाट बिजली ही मिल पा रही है। इसके कारण वितरण की स्थिति में सुधार नहीं हो पा रहा है।

गर्मी की तपिश के बीच बीच पावर कट से त्राहिमाम

राजधानी रांची में गर्मी के साथ बिजली व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। दिन हो या रात बिजली गुल होना आम बात हो गई है। सुबह से लेकर रात तक लोग गर्मी से परेशान हैं, बच्चों की परीक्षाएं है लेकिन कोई अधिकारी या पावर स्टेशन में फोन उठाने वाला तक नहीं है। हर बार लोकल फाल्ट का बहाना, कभी फीडर का बहाना और रातभर का इंतजार, यही हाल है बिजली विभाग के कर्मचारियों का। रात्रि 10 बजे के बाद से सुबह पांच बजे तक एयरपोर्ट, हटिया, रातू फीडर से जुड़े एक बड़े इलाकों में लगातार बिजली आती-जाती रहती है, लोगों की रात सिर्फ करवटें बदलते गुजर रही है।

शहर में बिजली की आंख मिचौली से परेशान रहे लोग

हर हर दिन की यही कहानी है, गुरुवार को भी रात में बिजली कटने का सिलसिला जारी था। रांची में गर्मी की तपिश के बीच बुधवार की आधी रात से लेकर गुरुवार देर रात तक पावर कट से लोग परेशान रहे। बिजली ने शहर के हर कोने के लोगों को रुलाया। कहीं लोग हाथ से पंखा झलने को मजबूर दिखे। कहीं मोटर नहीं चलने की वजह से नहाने के लिए पानी नसीब नहीं हुआ। हर दो घंटे के अंतराल में बिजली की आंख मिचौली जारी रही। बिजली विभाग के अधिकारियों को सूचना देने पर अनदेखी करते रहे। परेशानी के बीच लगातार लोड शेडिंग जारी रही। बरियातु, रातु रोड, पिस्का मोड़, दयान नगर, आइटीआइ, पिस्कामोड़, डोरंडा, पुंदाग, कोकर, चुटिया, कडरू, अरगोड़ा, कटहल मोड़, नगड़ी, कांके, कोकर, लालपुर, कांटा टोली, लोआडीह, हीनू, तुपूदाना, हटिया सहित कई इलाकों त्राहिमाम की स्थिति रही। इनमें कई इलाकों में तो 11 घंटे तक बिजली गुल रही।

हर दो घंटे में कटती रही बिजली, जारी रहा लोड शेडिंग

सबसे बुरा हाल तो रात का है। इस पावर कट और लोड शेडिंग की बिजली क्षेत्रीय आपूर्ति कार्यालय की ओर से पूर्व जानकारी भी नहीं दी जा रही है। लोग बिजली को लेकर मानसिक तनाव से गुजर रहे हैं, उनकी रातों की नींद तक गायब हो चुकी है।दस घंटे से अधिक कट रही बिजली :बिजली की स्थिति वर्तमान में ऐसी है कि रांची में रोजाना दस घंटे से तक बिजली कट रही है। खेलगांव, कडरू, कोकर सहित अन्य इलाकों में हर दो घंटे में बिजली कटती रही। जबकि अन्य इलाकों में भी स्थिति ऐसी ही रही। बिजली की आंख मिचौली के बीच घरों के अलावा व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में भी असर दिखा।

बिजली क्षेत्रीय आपूर्ति कार्यालय की ओर से नहीं दी जा रही पूर्व सूचना

बताया जा रहा है कि आपूर्ति की जाने वाली बिजली में कमी होने के कारण और बिजली की मांग में वृद्धि के कारण ये स्थिति बनी है। जबकि पिछले कुछ दिनों से अलग-अलग इलाकों में बिजली मरम्मत कार्य भी चल रही है।व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर भी फेल :बिजली विभाग की ओर से रांची आपूर्ति क्षेत्र के लिए बीते 18 अप्रैल को जारी की गई व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर भी फेल हो गई। इस नंबर पर गई सूचनाएं दी गई। लेकिन इन सूचनाओं के बावजूद कोई असर नहीं हुआ। कोई समाधान भी नहीं दिखी। जबकि विभाग की ओर से पावर कट, ट्रांसफार्मर जलने, ट्रांसफार्मर का फ्यूज उड़ने, वोल्टेज फ्लकचुएट करने पर व्हाट्सएप नंबर 9431135682 पर सूचना देने के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी की गई थी। जबकि समस्याओं पर कोई निबटारा नहीं किया जा रहा।

इसी तरह का हाल ओवर ब्रीज के पास एक उपभोक्ता के साथ हुआ, जब उसने बिजली कटे जाने की सूचना दी तो उन्हें कहा गया कि मिस्त्री जा रहे हैं तार में समस्या है। लेकिन सुबह से लेकर दोपहर तक पूरा मुहल्ला इंतजार करता रहा मिस्त्री का। शाम को काम पूरा हुआ।घंटो तार टूटे रहने से, कडरू में बिजली गुल रही :अरगोड़ा रेलवे स्टेशन के पास तार टूट जाने की वजह से कडरू स्टेशन रोड व आसपस घंटो बिजली गुल रही। सूचना देने के बावजूद देर शाम तक मरम्मस नहीं की गई। जब विभाग के वरीय अधिकारियाें तक सूचना दी गई, तब वहां मरम्मत कर बिजली ठीक करवाया गया।