किडनी और लिवर को स्वस्थ रखने के लिए अपनाए ये घरेलू नुस्खे

किडनी (kidney) और लिवर (liver) दोनों की समस्या हो जाए तो बहुत परेशानी होती है। ऐसे में इनको पहचानने के लिए आपको कुछ लक्षणों को पहचानना होता है, जिसमें पेशाब में जलन या दर्द आम है। जी दरअसल यह किडनी या लिवर के बिगड़े हुए स्वास्थ्य का संकेत हो सकता है। आप सभी को बता दें कि किडनी के स्वास्थ्य में किसी तरह की गड़बड़ी होने पर UTI यानी मूत्र पथ के संक्रमण, गुर्दे में पथरी या गुर्दे से जुड़ी कोई बीमारी हो सकती है। जी हाँ और इनके कारण कई और बड़ी समस्याएं भी बन सकती हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं किडनी और लिवर को स्वस्थ रखने के लिए घरेलू नुस्खे।

त्रिफला (Triphala)- त्रिफला एक ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का संयोजन है, और यह आपके वजन को घटाने के साथ किडनी के नेचुरल फंक्शन में सुधार करती है। जी दरअसल त्रिफला के सेवन से किडनी और लिवर को मजबूती मिलती है। इसके अलावा इसका सेवन शरीर के उत्सर्जन संबंधी कामों को प्रबंधन करने में मदद करता है।

धनिया (Coriander)- धनिया किडनी और लिवर से जुड़ी समस्याओं के लिए बहुत प्रभावी है। केवल यही नहीं बल्कि गुर्दे और मूत्राशय के कामों को नियमित करने में धनिया मददगार है।

अदरक (Ginger)- लिवर और किडनी की सफाई में अदरक बहुत ही मददगार है। जी हाँ और इसके सेवन से लिवर और किडनी डिटॉक्स हो जाते हैं। जी दरअसल इसमें मौजूद एंटी इंफ्लामेटरी गुण किडनी के दर्द और सूजन को कम करते हैं और UTI इंफेक्शन की समस्या से बचाते हैं।

संतुलित आहार (Balanced Diet)- आपका हर दिन का आहार प्रोटीन्स, कार्बोहाइड्रेट्स, फैट्स, मिनरल और विटामिन से संतुलित होना चाहिए।जी हाँ और  प्रत्येक भोजन में प्रोटीन का उचित अनुपात होना चाहिए, खास करके वेजीटेरियन प्रोटीन्स। इसके अलावा आपको नमक कम मात्रा में लेना चाहिए, क्योंकि नमक पेट में पानी का स्तर बढ़ा सकता है और पैर में सूजन पैदा कर सकता है। इसी के साथ लीवर व किडनी के रोगियों को प्रतिदिन 2 ग्राम नमक खाने की अनुमति होती है।

एक्सरसाइज (Exercise)- पेट में पानी की संतृप्ति के कारण फेफड़ों का निचला हिस्सा ठीक से नहीं खुल पाता है, इस वजह से हमें ब्रीथिंग एक्सरसाइज करनी चाहिए। जी हाँ और इसमें आप आसान ब्रीथिंग एक्सरसाइजेज भी कर सकते हैं या स्पिरोमेटेर (Spirometer) – फेफड़ों के व्यायाम के लिए उपयोग किया जाता है। वहीं इसके आलावा शरीर को स्वस्थ रखने के लिए भी थोड़ा व्यायाम करना जरुरी है।