मुख्यमंत्री योगी के समक्ष अटल आवासीय विद्यालयों की मानक संचालन प्रक्रिया के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण…

  • मुख्यमंत्री ने सभी 18 मण्डलों में अटल आवासीय विद्यालयों का निर्माण तेजी से पूर्ण किये जाने के निर्देश दिए
  • अटल आवासीय विद्यालय का निर्माण चरणबद्ध ढंग से पूरा करते हुए विद्यालय को क्रियाशील किया जाए
  • निर्माण प्रक्रिया में प्रत्येक स्तर पर गुणवत्ता मानकों का पालन सुनिश्चित किया जाए
  • विद्यालयों का संचालन वर्ष 2023 से प्रत्येक दशा में सुनिश्चित किये जाने के निर्देश
  • विभागीय मंत्री और सम्बन्धित वरिष्ठ अधिकारी फील्ड में जाकर विद्यालय निर्माण और उसके संचालन की प्रगति की मॉनीटरिंग करें
  • यह विद्यालय ऐसे मॉडल बनें, जिससे अन्य लोगों को भी प्रेरणा मिले
  • विद्यालय के संचालन के अनुश्रवण हेतु राज्य, मण्डल तथा जनपद स्तर पर समितियों का गठन किया जाए
  • विद्यालयों के प्रधानाचार्याें, शैक्षणिक तथा गैर शैक्षणिक कार्मिकों की तैनाती और पाठ्यक्रम निर्धारण के सम्बन्ध में शीघ्रता से कार्यवाही हो
  • योग्य व्यक्तियों का चयन पूरी पारदर्शिता के साथ सुनिश्चित किया जाए
  • पाठ्यक्रम को राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 के अनुकूल निर्धारित किया जाए
  • अटल आवासीय विद्यालयों और छात्रावास के भवनों का आर्कीटेक्चर भारतीय दर्शन व संस्कृति के अनुरूप हो

लखनऊ:उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने सभी 18 मण्डलों में अटल आवासीय विद्यालयों का निर्माण तेजी से पूर्ण किये जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि अटल आवासीय विद्यालय का निर्माण चरणबद्ध ढंग से पूरा करते हुए विद्यालय को क्रियाशील किया जाए। निर्माण प्रक्रिया में प्रत्येक स्तर पर गुणवत्ता मानकों का पालन सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने विद्यालयों का संचालन वर्ष 2023 से प्रत्येक दशा में सुनिश्चित किये जाने के निर्देश दिए।


मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर अटल आवासीय विद्यालयों की मानक संचालन प्रक्रिया के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण के अवसर पर अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि विभागीय मंत्री और सम्बन्धित वरिष्ठ अधिकारी फील्ड में जाकर विद्यालय निर्माण और उसके संचालन की प्रगति की मॉनीटरिंग करें। समयबद्धता और गुणवत्ता के सम्बन्ध में लापरवाही पाए जाने पर सम्बन्धित के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अवस्थापना सुविधाओं के तहत खेल के मैदान और कौशल विकास की भी व्यवस्थाएं सुनिश्चित हों। यह विद्यालय ऐसे मॉडल बनें, जिससे अन्य लोगों को भी प्रेरणा मिले। उन्होंने कहा कि विद्यालय के संचालन के अनुश्रवण हेतु राज्य, मण्डल तथा जनपद स्तर पर समितियों का गठन किया जाए।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विद्यालयों के प्रधानाचार्याें, शैक्षणिक तथा गैर शैक्षणिक कार्मिकों की तैनाती और पाठ्यक्रम निर्धारण के सम्बन्ध में शीघ्रता से कार्यवाही हो। योग्य व्यक्तियों का चयन पूरी पारदर्शिता के साथ सुनिश्चित किया जाए। पाठ्यक्रम को राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 के अनुकूल निर्धारित किया जाए। उन्होंने योग तथा स्पोटर्स को पाठ्यक्रम में विशेष रूप से शामिल करने की बात कही।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अटल आवासीय विद्यालयों और छात्रावास के भवनों का आर्कीटेक्चर भारतीय दर्शन व संस्कृति के अनुरूप हो। इसकी शैली उत्कृष्ट व जीवन्त हो। इसके निर्माण में आधुनिक तकनीक, डिजाइन और सुविधाओं का समावेश किया जाए। विद्यालय भवन में श्रमिकों के बच्चों एवं अनाथ बच्चों की आवश्यकताओं के अनुरूप व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं, जिससे बच्चों की योग्यता, क्षमता और कौशल का मूल्यांकन करते हुए उनकी रुचि के अनुसार शिक्षा दी जा सके।


अपर मुख्य सचिव श्रम एवं सेवायोजन श्री सुरेश चन्द्रा ने मुख्यमंत्री जी को अटल आवासीय विद्यालयों के निर्माण तथा संचालन के सम्बन्ध में प्रगति से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि विद्यालयों के निर्माण प्रक्रिया में तेजी लायी गयी है। सभी 18 मण्डलों मंे चरणबद्ध ढंग से विद्यालयों का निर्माण व संचालन सुनिश्चित किया जाएगा।


इस अवसर पर श्रम एवं सेवायोजन मंत्री श्री अनिल राजभर, श्रम एवं सेवायोजन राज्यमंत्री श्री मनोहर लाल मन्नू कोरी, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री श्री एस0पी0 गोयल सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
——–