आज के दिन भगवान शिव को भूलकर भी अर्पित न करें ये पांच चीजें,वरना नहीं मिलेगा कोई फल 

शास्त्रों में भगवान शिव की पूजा करने के कई सरल तरीके बताए गए हैं। जो व्यक्ति श्रद्धा के साथ भोलेनाथ की पूजा करता है। उसके ऊपर हमेशा शिव जी की कृपा बनी रहती हैं। भगवान शिव की पूजा करने के कई नियम है। इन्हीं नियमों में शास्त्रों में बताया गया है कि वह कौन सी चीजें हैं जो भगवान शिव को अर्पित नहीं करना चाहिए। इससे पूजा का पूर्ण फल नहीं मिलता है। आइए जानते हैं कि वह कौन सी चीजें है जो भगवान शिव को क्रोधित कर सकती हैं।

तुलसी

भगवान शिव को कभी भी तुलसी अर्पित नहीं करना चाहिए। क्योंकि भगवान शिव और भगवान विष्णु ने देवी वृंदा के राक्षस पति जालंधर का वध करने की योजना बनाई कि किस तरह देवी वृंदा का पति धर्म भंग करके जालंधर का अमरत्व को खत्म कर सकते हैं। इसके बाद जब वृंदा को पति की मृत्यु और धोखे का पता चला तो उन्होंने क्रोधित होकर भगवान शिव को शाप दे दिया कि जो व्यक्ति तुलसी आपको अर्पित करेगा। उसे कभी भी पूजा का फल नहीं मिलेगा। इसी कारण तुलसी भगवान शिव को अर्पित नहीं की जाती है।

तिल

भगवान शिव को तिल भी अर्पित नहीं किए जाते हैं। क्योंकि तिल भगवान विष्णु के मैल से उत्पन्न हुए थे। इस कारण कभी भी भगवान शिव को तिल अर्पित नहीं करना चाहिए।

नारियल

भगवान शिव को नारियल भी अर्पित नहीं किया जाता है। क्योंकि नारियल में मां लक्ष्मी का वास होता है। नारियल को धन-धान्य, सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। इसलिए भगवान शिव को नारियल नहीं अर्पित करना चाहिए।

सिंदूर

भगवान शिव को सिंदूर नहीं चढ़ाना चाहिए। क्योंकि सिंदूर को सौभाग्य की निशानी में से एक माना जाता है और भगवान शिव संहारक के रूप में है। इसलिए उन्हें सिंदूर की जगह सफेद चंदन लगाएं।

हल्दी

अधिकतर धार्मिक कामों में हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन भगवान शिव को कभी भी हल्दी अर्पित नहीं करना चाहिए। क्योंकि शिवलिंग पुरुष तत्व का प्रतीक है और हल्दी स्त्रियों से संबंधित है। इसी कारण भगवान शिव की पूजा के दौरान हल्दी नहीं चढ़ाना चाहिए।