बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं संयुक्‍त प्रारंभिक परीक्षा का पेपर लीक होने पर गरमाई सियासत, कांग्रेस की अलका लांबा की तीखी टिप्‍पणी

Bihar Politics: बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की 67वीं संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा में पेपर लीक होने पर राजनीति तेज हो गई है। विपक्षी दल इस मसले को लेकर सरकार पर हमलावर हैं। बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने ट्वीट करते हुए कहा है कि बिहार लोक सेवा आयोग ने करोड़ों युवाओं और अभ्‍यर्थियों का जीवन बर्बाद किया है। इसका नाम अब बिहार लोक पेपर लीक आयोग कर देना चाहिए। कुछ दिनों पहले तक बिहार की सरकार में मंत्री रहे मुकेश सहनी ने भी इस मसले पर तीखा बयान दिया है। चिराग पासवान ने इसे सरकार की नाकामी बताया है, वहीं कांग्रेस की बड़ी नेता अलका लांबा ने भी इस मसले पर सरकार को घेरा है।

सहनी ने रेलवे परीक्षा का मामला भी उठाया 

विकासशील इंसान पार्टी (वीआइपी) के प्रमुख और बिहार के पूर्व मंत्री मुकेश सहनी ने बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की 67वीं संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा में पेपर लीक होने पर सरकार को कठघरे में खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) की गैर तकनीकी लोकप्रिय श्रेणी (एनटीपीसी) की परीक्षा को लेकर हुई गड़बड़ी से छात्र उबर भी नहीं पाए थे कि अब बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा में पेपर लीक हो गया।

सहनी ने बताया- नीम पर करैला 

मुकेश सहनी ने कहा कि यह छात्रों के भविष्य के लिए नीम पर करैला साबित हुआ। वीआइपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता देव ज्योति ने भी कहा कि छात्र जब अपनी मांग को लेकर सड़क पर उतरते हैं तो सरकार लाठी चार्ज करवाती है, आज तो लाखों बच्चो का भविष्य सरकार ने दांव पर लगा दिया, सरकार अब क्या करेगी? उन्होंने मांग किया  कि इस मामले में जो भी दोषी हों उस पर कड़ी कार्रवाई हो।

पेपर लीक में शामिल अधिकारियों पर कार्रवाई हो : राजद

राजद ने बीपीएससी की पीटी परीक्षा पेपर लीक मामले में शामिल पदाधिकारियों और कर्मचारियों पर कार्रवाई की मांग की है। राजद प्रवक्ता एजाज अहमद ने कहा कि सरकार परीक्षा को रद करके सिर्फ खानापूर्ति कर रही है, जबकि परीक्षा होने के पहले जिस तरह की सतर्कता और ईमानदारी दिखनी चाहिए थी, वह कभी भी नहीं दिखाई देता है। राजद नेता ने कहा कि जब भी परीक्षा ली जाती है तब प्रश्नपत्र आउट हो जाता है। साफ है कि इसमें बड़े रैकेट की भूमिका है, जो उन परीक्षार्थियों के फायदे के लिए काम करता है जो उन तक चढ़ावा चढ़ाते हैं। राजद नेता ने आरोप लगाया कि इसमें सरकार में बैठे लोग भी शामिल हैैं। 

अलका लांबा और चिराग ने सरकार को घेरा

कांग्रेस की सीनियर लीडर अलका लांबा और लोजपा (रामविलास) के अध्‍यक्ष चिराग पासवान ने इसके लिए सरकार को जिम्‍मेदार ठहराया है। चिराग पासवान ने कहा कि युवाओं के भविष्‍य से कब तक खिलवाड़ होते रहेगा। अलका लांबा ने आरा के कुंवर सिंह कालेज का एक वीडियो शेयर करते हुए कहा है कि भारत के भविष्‍य से यह कैसा खिलवाड़ हो रहा है?