छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने हायर सेकेंडरी परीक्षा के परिणाम किया घोषित….

 Chhattisgarh Board 10th, 12th result 2022 date Live Update: छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल(माशिमं) ने हायर सेकेंडरी परीक्षा के परिणाम घोषित कर दिया है। शनिवार की दोपहर 12 बजे स्कूल शिक्षा मंत्री डा. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने परीक्षा के परिणाम जारी किए हैं। बालोद के रितेश साहू ने टाप किया है। रितेश साहू ने 95.60 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं।

वहीं परीक्षा के परिणाम में जो परीक्षार्थी असफल हुए हैं या पूरक श्रेणी में आए हैं उनके मार्गदर्शन के लिए माशिमं ने 13 मई से 2022 हेल्पलाइन प्रारंभ की है। शनिवार की दोपहर 12 बजे 10वीं- 12वीं दोनों ही कक्षाओं का परिणाम आएगा। विद्यार्थी, शिक्षक और अभिभावक प्रातः 10.30 बजे शाम 5 बजे तक हेल्पलाइन में मंडल के टोल फ्री नम्बर 18002334363 पर अपनी समस्याओं का समाधान 13 से 23 मई तक कर सकते है। हेल्पलाइन में मनोचिकित्सक, मनोवैज्ञानिक, करियर काउंसलर द्वारा परीक्षार्थियों के परीक्षा परिणाम के भय से होने वाले तनाव का प्रबंधन एवं आगामी कक्षा में विषयों के चयन के संबंध में परामर्श देंगे ।

पुरस्कृत होंगे मेरिट के मेधावी

मेरिट में टापटेन आने वाले परीक्षार्थियों को पुरस्कृत किया जाएगा। इस बार माशिमं ने आफलाइन मोड पर स्कूल के परीक्षा केंद्रों पर ही परीक्षा ली थी। इस बार परीक्षा में पुनर्मूल्यांकन व पुनर्गणना की पात्रता रखी गई है। जिन परीक्षार्थियों को अपेक्षा के अनुरूप कम अंक मिलेंगे वह अपने अंकों का सुधार करवाने के लिए आवेदन कर सकेंगे।

इस वेबसाइट पर देख सकेंगे परिणाम

मंडल की वेबसाइट www.cgbse.nic.in और results.cg.nic.in पर परिणाम देख सकते हैं।

इतने परीक्षार्थी हुए हैं शामिल

12वीं की परीक्षा में इस बार रायपुर में 30 हजार 750 समेत प्रदेशभर में दो लाख 93 हजार 425 परीक्षार्थी शामिल हुए हैं। इनमें दो लाख 89 हजार 808 परीक्षार्थी नियमित हैं। जबकि तीन हजार 617 प्राइवेट परीक्षार्थी शामिल हुए हैं। रायपुर में 425 समेत प्रदेशभर के 6,743 केंद्रों पर परीक्षा आयोजित की गई थी।

12वीं में पिछले सालों में बालिकाओं का इस तरह रहा प्रतिशत

12वीं बोर्ड परीक्षा में यदि पिछले सालों के आंकड़ों को देखें तो बालिकाएं आगे ही रहीं हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि बालिकाओं को समाज में पढ़ने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। पहले की तुलना में बालिकाओं के परिणाम बेहतर आ रहे हैं। मेहनत और पढ़ाई के प्रति ललक के साथ गंभीरता अधिक होने से बालिकाएं यह साबित कर रही हैं कि वह भी बुद्धिमत्ता के मामले में बालकों के बराबर ही हैं।

साल कुल प्रतिशत बालक बालिकाएं

2011 – 71.74 – 68.94 – 75.34

2012 – 73.87 – 71.71 – 76.57

2013 – 74.08 – 72.87 – 77.20

2014 – 72.86 – 70.20 – 75.93

2015 – 73.35 – 70.72 – 76.32

2016 – 73.43 – 71.19 – 75.83

2017 – 76.36 – 73.70 – 79.05

2018 – 77.00 – 74.40 – 79.40

2019 – 78.43 81.08 – 75.53

2020 – 78.59 – 74.70 – 82.02

2021 – 97.43 – 96.69 – 98.06