वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद विवाद को लेकर अदालत के आदेश पर दूसरे दिन भी एडवोकेट कमिश्‍नर की कार्यवाही जारी….

ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के भीतर और बाहर सर्वे के लिए रविवार को दूसरे दिन भी एडवोकेट कमिश्‍नर की कार्यवाही की गई। इस दौरान दोनों पक्ष के अधिवक्ता मौजूद रहे। रविवार को मंदिर में दर्शन पूजन के लिए भारी भीड़ को देखते हुए दूसरे दिन सुरक्षा व्‍यवस्‍था और भी कड़ी कर दी गई। वहीं तय समय आठ बजे के पूर्व ही वादी अधिवक्ता चौक थाने से ज्ञानवापी के लिए निकले तो उनके साथ स्पेशल एडवोकेट कमिश्नर विशाल सिंह और जितेंद्र सिंह बिसेन भी मौजूद रहे। वहीं दोपहर में सर्वे पूरा होने के बाद तहखाने में सफाई के लिये कई सफाई कर्मी भी भेजे जाने की जानकारी सामने आई।  जबकि, इस मामले में सोमवार को भी परिसर में सर्वे का कार्य जारी रखने की जानकारी दी गई है।  

इस बाबत वादी पक्ष के अधिवक्ता विष्णु जैन ने जागरण को बताया कि सर्वे का कार्य दो दिन करने के बाद भी काम पूरा नहीं हुआ है। इस बाबत कल सुबह आठ बजे से शेष कार्यवाही पूरी करने का प्रयास होगा। जबकि प्रतिवादी पक्ष के अधिवक्‍ता तौहीद खान ने बताया कि टीम ने रविवार को परिसर के अलावा तहखाने और कमरों में जाकर सर्वे का कार्य पूरा कर लिया है। कुछ जांच शेष होने की वजह से बाकी कार्यवाही सोमवार को पूरी की जाएगी। 

jagran

भीषण गर्मी की वजह से इस दौरान सर्वे में शामिल टीम के सदस्‍यों में कई की हालत पसीना पसीना होने की वजह से खराब हो गई। हालांक‍ि परिसर में पीने के पानी की व्‍यवस्‍था रखी गई थी। वहीं सुबह नौ बजे के बाद से ही चटख धूप होने के बाद परिसर में सर्वे में शामिल टीम को मौसमी चुनौती भी झेलनी पड़ी। 12 बजे तक सर्वे का काम एडवोकेट कमिश्‍नर के निर्देशन में होने के बाद टीम ने कुछ देर ठहर कर रविवार को कुल कार्यों का हिसाब किया वहीं अन्‍य शेष रह गए सर्वे के कार्यों पर आपस में विचार विमर्श कर आगे की कार्यवाही को लेकर मंथन किया गया। अब टीम यह तय करेगी कि सर्वे को यहीं पूरा माना जाए या फ‍िर सर्वे को आगे भी जारी रखा जाए।   

सुबह साढ़े आठ बजे के बाद पुलिस कमिश्‍नर भी मौके पर पहुंचे और सुरक्षा व्‍यवस्‍था का जायजा लिया। लगातार चार घंटे तक सर्वे का काम पूरा होने के बाद दोपहर 12 बजे सर्वे का कार्य रोक दिया गया। माना जा रहा है कि शेष कुछ सर्वे का कार्य रह जाने की वजह से सोमवार को भी इस मामले में सर्वे का कार्य जारी रहेगा। दूसरी ओर आसपास की दुकानों को सुरक्षा कारणों से बंद करा दिया गया है। यहां के घरों से भी लोगों को निकलने की अनुमति दोपहर 12 बजे तक नहीं होने से लोगों को काफी दुश्‍वारी का सामना करना पड़ रहा है।

jagran

रविवार को 12 स्‍तरीय सुरक्षा व्‍यवस्‍था बनी हुई। प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार तहखाने के एक हिस्से की वीडियोग्राफी शनिवार को नहीं हो पाई थी उसे रविवार को खोला गया तो उसमें मिट्टी होने की जानकारी सामने आई है। वहीं गुम्बद के वीडियोग्राफी के लिए कैमरे को विशेष तौर पर सावधानी से प्रयोग किया गया। दोपहर तक 100 फीसद वीडियोग्राफी की कार्यवाही की उम्‍मीद थी। हालांकि, एक तहखाने में मिट्टी होने की जानकारी के बाद अदालत से इसे हटाकर जांचने की मांग किए जाने की चर्चाओं की जानकारी सामने आई है। 

विश्वनाथ मंदिर में दर्शन के लिए द्वार संख्या एक स्थित अन्नपूर्णा मंदिर पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी तो सुरक्षा व्‍यवस्‍था के लिए अतिरिक्‍त बलों को मोर्चा संभालना पड़ा। रविवार की कार्यवाही के क्रम में सुबह 8-15 बजे मस्जिद के गुंबद की वीडियो फोटोग्राफी के साथ शुरू हुई। वीडियोग्राफी के दौरान एक दीवार पर सफेदी रंगी होने की जानकारी मिलने पर वादी पक्ष ने करीब से इसकी जांच की। सुबह प्रशासनिक अधिकारियों के साथ 52 लोगों की टीम ज्ञानवापी की छत और परिसर के अलावा गुंबद संग बाहर की दीवारों आदि की वीडियोग्राफी को पूरा करा रही है। अदालत के निर्देशों के अनुसार दोपहर 12 बजे तक एडवोकेट कमिश्‍नर की कार्यवाही की जाएगी।

jagran

बोले जिलाधिकारी वाराणसी : वाराणसी में सिविल जज सीनियर डिवीजन न्यायालय द्वारा दिनांक 18 अप्रैल 2022 और दिनांक 12 मई 2022 के विस्तृत आदेशानुसार प्राचीन आदि विश्वेश्वर परिसर के बारे में राखी सिंह आदि बनाम उत्तर प्रदेश सरकार आदि वाद में कोर्ट कमीशन द्वारा वीडियोग्राफी कराने के निर्देश दिये गये थे। इसके क्रम में तीन कोर्ट कमिश्नर द्वारा रविवार को भी सभी पक्षकारों की उपस्थिति में कोर्ट कमीशन की कार्यवाही प्रातः 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक की गई ।

इस दौरान सुरक्षा की सुदृढ़ व्यवस्था की गई थी। काशी विश्वनाथ मंदिर के श्रद्धालुओं को ढूंढि राज गणेश और गंगा नदी द्वार के माध्यम से प्रवेश देते हुए ज्ञानवापी के संयुक्त द्वार नंबर चार को जन सामान्य के प्रवेश को चार घंटे बंद रखा गया। कमीशन की कार्यवाही शांतिपूर्वक माहौल में सुचारू रूप से चली । इस दौरान प्रतिवादी पक्षकार उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से अपरजिलाधिकारी प्रशासन, जिलाधिकारी वाराणसी की ओर से अपरजिलाधिकारी नगर, पुलिस आयुक्त वाराणसी की ओर से अपर उपायुक्त और काशी विश्वनाथ ट्रस्ट की ओर से मुख्य कार्यपालक अधिकारी कमीशन कार्यवाही के हिस्सा बने।

आज भी सभी पक्षों द्वारा न्यायालय के आदेशों का शांतिपूर्ण तरीके से पालन किया गया। कोर्ट कमीशन के निर्देशानुसार प्रशासन द्वारा उनको पर्याप्त रोशनी के संसाधन, सूचना विभाग के वीडियो व फोटोग्राफर, प्राधिकरण के ड्राफ्ट्समैन, तहसील के राजस्वकर्मी, मज़दूर व अन्य निर्देशित सुविधाएं उपलब्ध कराई गई थीं। कोर्ट कमीशन द्वारा रविवार के कमीशन कार्य के उपरांत निर्णय लिया गया है कि कमीशन की कार्यवाही सोमवार को भी जारी रहेगी। उनके द्वारा सोमवार सुबह 8 बजे सभी पक्षकारों को उपस्थित रहने हेतु निर्देशित किया गया है।

यह था प्रकरण : वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद परिसर स्थित माता शृंगार गौरी के नियमित दर्शन और पूजन के साथ परिसर में मौजूद अन्य देवी देवताओं के विग्रहों को सरंक्षित करने की याचिका राखी सिंह, मंजू व्यास, सीता साहू, रेखा पाठक और लक्ष्मी देवी ने बीते वर्ष 18 अगस्त 2021 को लगाई थी। वाराणसी में सिविल जज सीनियर डिवीजन के यहां याचिका दाखिल होने के बाद से लगातार सुनवाई जारी थी।