प्रयागराज से कानपुर और लखनऊ जाने वाले आम नागरिकों को जल्द ही सफर में होगी आसानी..

प्रयागराज से कानपुर और लखनऊ जाने वाले आम नागरिकों को जल्द ही सफर में आसानी होगी। महाकुम्भ के मद्देनजर प्रयागराज से रायबरेली मार्ग का चौड़ीकरण हो रहा है। इसके बाद लखनऊ और कानपुर की दूरी महज तीन घंटे में पूरी हो जाएगी। यह जानकारी सोमवार को प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग नरेंद्र भूषण के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिग में अफसरों ने दी।

कुम्भ मेला 2025 के प्रस्तावित कार्यों को लेकर हुई इस ऑनलाइन बैठक में प्रयागराज से सभी अधिकारी जुड़े। बताया गया कि प्रयागराज-रायबरेली-लखनऊ मार्ग को फोर लेन करने का काम एनएचएआई करा रहा है। परियोजना निदेशक ने बताया कि लखनऊ-प्रयागराज राजमार्ग दो सेक्शन में विभक्त है, जिसमें लखनऊ से रायबरेली 70 किमी और रायबरेली से प्रयागराज 106 किमी शामिल है। लखनऊ से रायबरेली तक 4 लेन का काम हो चुका है। मेनटेनेंस का काम चल रहा है। रायबरेली से प्रयागराज चौड़ीकरण का काम दो चरणों में होगा। 

पहले चरण में चार जगहों जगतपुर, बाबूगंज, ऊंचाहार, अलापुर पर ग्रीन फील्ड बाईपास बनाया जा रहा है। सई नदी पर एक पुल का भी निर्माण किया जा रहा है। पहला चरण नवंबर 2024 तक पूरा होने की संभावना है। दूसरे चरण में 8.5 किमी के दो लेन को फोर लेन में उच्चीकृत किया जा रहा है। इसका टेंडर 19 जनवरी को निकाला गया है, जो मूल्यांकन के स्तर पर है। काम 31 मार्च तक शुरू कराया जाएगा। यह काम मार्च 2024 तक पूरा होने की संभावना है। शेष 63 किमी के लिए टेंडर मांगा गया है, जो मार्च तक हो जाएगा। 15 अप्रैल तक काम शुरू होगा जो 2024 तक पूरा हो सकता है।

मंडलायुक्त विजय विश्वास पंत ने फतेहपुर से कानपुर तक किए जा रहे फोरलेन रोड के निर्माण की प्रगति धीमी होने की बात कही। जिस पर अधिकारियों द्वारा आश्वासन दिया गया कि इसे अति शीघ्र पूरा कर लिया जाएगा। लखनऊ व कानपुर दोनों ही रूट पर चौड़ीकरण व फोरलेन का काम पूरा होने पर इन शहरों की सड़क मार्ग से दूरी महज तीन घंटे की रह जाएगी।

रिंगरोड के पहले चरण का बन रहा है डीपीआर
जिले में प्रस्तावित रिंग रोड के बारे में बताया गया कि कुल लंबाई 65 किलोमीटर है। इसे दो चरणों में बनाया जा रहा है। पहला चरण सहसों से दांदूपुर तक कुल 29.5 किलोमीटर का है। इसका डीपीआर बन रहा है। पहले चरण के पहले पैकेज में रीवा रोड के निकट दांदूपुर से मिर्जापुर के महुआरी गांव तक 7.6 किलोमीटर की सड़क का निर्माण होगा। दूसरे पैकेज में महुआरी से नवाबा उर्फ नीबीकला उपरहार गांव तक 7.6 किमी सड़क का निर्माण होगा। पैकेज तीन में नवाबा उर्फ नीबीकला उपरहार से खुदायपुर कसगांव एनएच 16 पर 14.763 किमी निर्माण कार्य होना है।

सीआरआरआई से मांगी रिपोर्ट, कैसे होगा ट्रैफिक कंट्रोल
मलाक हरहर से स्टैंनली रोड तक पुल के बनने के बाद स्टैनली रोड पर यातायात का दबाव बहुत अधिक बढ़ेगा। मंडलायुक्त ने बताया कि यहां पर भीड़ का दबाव न बढ़े इसलिए प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने सेंट्रल रोड रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीआरआरआई) से संपर्क किया है। इसके लिए एक प्लान तैयार हो रहा है।

Pmc Publish

Learn More →